सुषमा से इतना ज्यादा था प्यार, किडनी तक देने को तैयार, जानिए ऐसा क्या कारण था

दरअसल, ये बात नवम्बर 2016 की है। तब की विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज के बारे में खबर आई कि उनकी किडनी खराब हो गई है। इस सूचना पर खीरी जिले के पड़रिया गांव की रहने वाली निधि पांडे ने अजीब पेशकश कर दी। विदेश मंत्रालय को फोन कर निधि ने कहा कि वह सुषमा को अपनी किडनी देना चाहती है। अब जब सुषमा के निधन की खबर आई तो निधि पांडे का परिवार अवाक है।
loading...
किडनी की बीमारी से जूझ रहीं सुषमा स्वराज को निधि पांडेय ने अपनी किडनी देने के लिए आगे आई थीं। उन्‍होंने विदेश मंत्रालय को लेटर लिखकर व फोनकर इसकी जानकारी दी थी। निधि पांडेय लखीमपुर जिले के पड़रिया की रहने वाली हैं। वह गांव में ही एक ब्यूटी पार्लर चलाती हैं। उनके पति दीपक पांडे कवि हैं, जो पहले प्राइवेट बस यूनियन में मैनेजर हैं। जैसे ही सुषमा स्वराज की किडनी फेल होने का खबर मीडिया में आई, निधि पांडे ने किडनी दान करने का प्रस्ताव मीडिया के जरिए पेश कर दिया। 
उन्होंने कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज महिलाओं का सम्मान थीं। उन्होंने देशहित के लिए काम किया है। ऐसी नेता का जीवन बचाने के लिए वह अपनी एक किडनी दान करना चाहती थीं। निधि ने बताया कि उन्‍होंने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर कहा था कि उनकी उम्र 28 साल है। उनका ब्लड ग्रुप बी पॉजीटिव है और वह अपनी इच्छा और देशहित के खातिर अपनी एक किडनी सुषमा स्वराज को देना चाहती हैं। पर विदेश मंत्रालय ने निधि को धन्यवाद देकर किडनी लेने से मना कर दिया।