डॉक्टर ने कहा पेट मे बच्चा नहीं है लेकिन अब महिला ने दिया बेटे को जन्म, जानें पूरा मामला

कथित तौर डॉ सीमा ने जिस महिला को उसके गर्व में पुत्री भ्रूण होने की बात बताई थी. उसने अब सोमवार रात को कोडरमा के डोमचांच रेफरल अस्पताल में बेटे को जन्म दिया है. डोमचांच के नावाडीह गांव की रहने वाली महिला सुप्रिया कुमारी को नॉर्मल डिलिवरी हुई है. भ्रूण जांच के इंजाम में गिरफ्तार डॉ सीमा के मामले में अब प्रशासन की कार्रवाई पर प्रश्न उठने लगे हैं. 
loading...
दरअसल कथित तौर डॉ सीमा ने जिस महिला को उसके गर्व में पुत्री भ्रूण होने की बात बताई थी. उसने अब सोमवार रात को कोडरमा के डोमचांच हॉस्पिटल में बेटे को जन्म दिया है. डोमचांच के नावाडीह गांव की रहने वाली महिला सुप्रिया कुमारी को नॉर्मल डिलिवरी हुई है. दूसरी ओर इस मामले में गिरफ्तार धन्वंतरी अल्ट्रासाउंड की संचालिका डॉ सीमा फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं. वह एक माह से अधिक समय से न्यायिक हिरासत में हैं. अब आइएमए के डॉक्टरों ने इस मामले में प्रशासनिक कार्रवाई पर प्रश्न उठाया है.

क्या है पूरा मामला 
गत 27 मई को कोडरमा के तत्कालीन डीसी बीपी सिंह के आदेश पर जिला प्रशासन की टीम ने धन्वंतरी अल्ट्रासाउंड में छापेमारी की थी. टीम ने जिस महिला को डिकॉय (प्रलोभन देनेवाली महिला) बनाकर भ्रूण जांच के लिए भेजा था. उस महिला ने बयान में कहा था कि डॉक्टर सीमा ने दलाल के माध्यम से उसे यह जानकारी दी थी कि उसके गर्व में कन्या भ्रूण है. इसके बाद जांच टीम ने अल्ट्रासाउंड मशीन को जब्त करते हुए डॉक्टर सीमा को हिरासत में ले लिया. 27 मई की देर रात केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था.

जांच अधिकारियों पर हो कार्रवाई 
अब आइएमए कोडरमा ने इस मामले में तलाशी अधिकारियों की मंशा पर सवाल खड़ा किया है. संघ ने कहा कि सच उजागर हो गया है. इसलिए डॉ सीमा को आरोपमुक्त कर सरकार जांच अधिकारियों पर कार्रवाई करे. डॉक्टर्स डे के मौके पर डॉक्टरों को ये नैतिक विजय मिली है.