प्रेमी के साथ खिंचवाई तस्वीर हो गई वायरल, पड़ोसियों की बातों से तंग आकर उठाया ये बड़ा कदम…

दरअसल, भोपाल के एक गांव महाराजपुरा की रहने वाली एक लड़की जिसकी उम्र मात्र 20 साल थी उसको बगल के  नजदीकी गांव के लड़के से प्यार हो गया. जिसके बाद दोनों की इस वर्ष मेले में मिलने की योजना बनी और घूमने-फिरने के बाद उन्होंने साथ मे तस्वीरे भी खिंचवाई. लेकिन इनके प्यार पर तो किसी और की काली नजर मंडरा रही थी.  एक लड़के ने उसको मेले में बॉयफ्रेंड के साथ घूमते देख मोबाइल में उनकी तस्वीरें उतार ली और व्हाट्सएप्प के जरिये पूरे गांव में फैला दिया सिर्फ इतना ही नही बल्कि सभी गांववालों के इतना भड़का दिया जिससे बात पंचायत तक पहुंच गई.
loading...
जब लड़की और उसके परिजनों को ग्राम समाज के पंचायत में बुलाया गया तो रूढ़िवादी समाज ने यह फैसला लिया कि उसे और उसके परिजनों को गांव से निकाल दिया जाय वो इसलिए क्योंकि उस लड़की ने दूसरे समाज के लड़के से प्यार किया. अपने परिवार पर इतने जुल्म ढहते देख लड़की बर्दाश्त नही कर सकी और घर जाकर मौत को गले लगा लिया. 
हालांकि जैसे ही उन्हें गांव से बहिष्कृत किया गया लोगो ने यह भी निर्णय ले लिया कि जल्दी से लड़का देख कर शादी करवा दी जायेगी. लेकिन तब तक काफी देर भी हो चुकी थी. लड़की ने घर मे कदम रखते ही यह ऐलान कर दिया कि “मैं शादी करूंगी तो सिर्फ बाल्मीकि मोहल्ला के रामबाबू से वरना मै जान दे दूंगी”. लोगो ने उसकी एक नही सुनी और वहां मौजूद औरतों ने उसे इतना ताना सुनाया जिससे उसने भी मरना ही सही समझा.
अपनी बेटी की मौत से परिजन खासे दुखी हुए और इन सबका जिम्मेदार उस फ़ोटो वायरल करने वाले लड़के और समाज को माना इसलिए लड़के के बाप ने सोनू के खिलाफ पुलिस केस दर्ज करने का भी फैसला ले लिया. मृतका की माँ कहती है कि हमारे पति और बेटा लड़का तलाशने में जुट गए थे और मै मेरी बहु के साथ ढलती शाम पानी भरने गयी जब लड़की ने सुसाइड कर लिया. वह अपने परिवार की बद्दतर हालत देख काफी दुखी यही जिसका सदमा वह बर्दाश्त नही कर सकी.
ये पहली बार नही हुआ है जब उस गांव में ऐसी वारदात हुई हो पहले भी कई लड़कियां प्यार में अपनी जान गावँ चुकी है. जिसके बाद पुलिस ने कार्यवाई की रफ्तार भी बढ़ा दी है  नवल आर्या जो कि कोतवाली के टीआई हैं उन्होंने यह घोषणा की है कि आरोपी को जल्द ही पुलिस हिरासत में ले लेगी फिलहाल आरोपी के फरार होने से देरी हो रही है.पर मृतका के परिजनों को पुलिस ने ये विश्वास दिलाया है कि वह उन्हें  न्याय दिलाकर ही राहत की सांस लेंगे.