फूलता जा रहा था पेट, नहीं हो रहा था दर्द, ऑपरेशन के बाद जो सामने आया उसे देख दंग रह गए डॉक्टर..!


नेहरू नगर निवासी राकेश सेन छह महीने से परेशान थे। महीने दर महीने उनका पेट फूलता जा रहा था, किन्तु उनको पेट दर्द जरा भी नहीं था, सिर्फ भूख नहीं लगती थी। परिजनों के कहने पर राकेश नजदीकी अस्पताल गए, किन्तु बीमारी का पता नहीं चला। इसके बाद जब हमीदिया पहुंचे तो डॉक्टरों ने पेट का अल्ट्रासाउंड कराया।

loading...
डॉक्टर ने बताया कि पेट में गांठ है और ऑपरेशन करना पड़ेगा। राकेश को किसी तरह का दर्द नहीं था। इसलिए वे ऑपरेशन की हड़बड़ी में नहीं थे। उन्होंने दूसरे डॉक्टर से जांच करवाई। पुष्टि होने पर एक सप्ताह बाद राकेश फिर हमीदिया पहुंचे। इसके बाद विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन किया।

किडनी के 95% हिस्से में फैला था ट्यूमर


ऑपरेशन करने वाले हमीदिया अस्पताल के यूरो सर्जन डॉ. अमित जैन ने बताया कि राकेश की किडनी के 95 % हिस्से में ट्यूमर फैला था। ऑपरेशन में सबसे बड़ी दिक्कत थी उम्र। राकेश 54 साल के हैं। इस उम्र में ऑपरेशन में खून अधिक बहने का खतरा रहता है। उन्होंने यूरो सर्जन डॉ. वाई रमोले के साथ और सात डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन किया। एनेस्थीसिया देने से लेकर ट्यूमर निकालने में पांच घंटे का समय लगा।

नसें सिकुड़ गई थीं


डॉ.जैन के अनुसार राकेश का ट्यूमर तेजी से बढ़ रहा था। इस ट्यूमर के कारण से दिल तक ख़ून पहुंचाने वाली नसें सिकुड़ सी गई थीं। यदि ऑपरेशन नहीं करते तो वह रीनल वेन के माध्यम से दिल तक पहुंच जाता। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन के वक़्त किसी प्रकार से ब्लड लॉस का खतरा हम नहीं ले सकते थे।