बालाजी का मंदिर तोड़ने के लिए मंगवाई जेसीबी मशीने, मंदिर तो टूटा नहीं किन्तु.

पिछले वर्ष यूपी के शाहजहांपुर में नैशनल हाईवे बनाने का कार्य चल रहा था और रोड के बीच एक हनुमान मंदिर आ गया जिसे रोड का निर्माण कर रहे लोगों ने तोड़ने का कोशशि किया किन्तु, उस मंदिर की एक ईंट भी नहीं हिला सके. जी हाँ, वहीं उसके बाद उन्होंने मंदिर को तोड़ने के लिए मशीनें मंगवाई और जब मंदिर तोड़ने का वक्त आया तो मंगवाई गईं सारी मशीनें ख़राब हो गईं. जी हाँ, वहीं उसके बाद लोगों ने मंदिर न तोड़े जाने की अपील की और अब मंदिर तोड़ने का कार्य रोक दिया गया है.
जी हाँ, आप सभी को बता दें कि तिलहर थाना क्षेत्र के नैशनल हाईवे 24 के कचियानी खेड़ा के पास स्थित हनुमान का ये मंदिर 130 वर्ष पुराना है और नैशनल हाईवे 24 पर फोर लेन बनाने का काम चल रहा था. ऐसे में रोड बनाने के बीच मे ये हनुमान जी का मंदिर आ गया और उसके बाद रोड बना रही कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर ने इसे मंदिर तोड़ने के अदेश दे दिए. यह सुनकर मंदिर को तोड़ने का कार्य शुरू किया गया और बड़ी मशीने मंगवाई गईं किन्तु, जब मशीनों द्वारा मंदिर को तोड़ने का कार्य शुरू हुआ तो मशीनें खराब होना शुरू हो गईं और एक के बाद एक मशीन खराब हो गई. वहीं उसके बाद भी मंदिर की एक ईंट भी नहीं हिली. वहीं यह सब होने के बाद कंपनी के लोगों ने मंदिर के पास एक पूजा की और मंदिर को दूसरी स्थान स्थापित करने का निर्णय लिया जिसके बाद मंदिर का कुछ भाग को तोड़ा जा सका.

आप सभी को बता दें कि जब इस मंदिर की मूर्ति को हटाने का समय आया तो फिर बङी मशीने मंगवाई गई और कंपनी के लोग मूर्ति को तोड़ने की कोशशि करते रहे किन्तु मूर्ति पर जरा सी खरोंच तक नहीं और इस दृश्य को देखने के बाद आसपास के लोग मंदिर के पास पहुंच गए और मंदिर तोड़ने का विरोध करने लगे. वहीं इस मामले में स्थानीय लोगों का कहना था कि जब मंदिर तोड़ने के पूरे कोशशि कर लिए गए और मंदिर नही टूटा तो इसको अब तोडना गलत होगा.