खाकी वर्दी पहनकर बैंक में घुसी महिला ने कर्मचारियों पर तान दी मशीनगन

दोपहर ढाई बजे के बाद जैसे ही बैंककर्मी लंच के बाद कार्य शुरू करने के लिए काउंटर पर बैठने ही वाले थे कि ऐसी घटना घटी जिसने सभी के होश उड़ा दिए। एका-एक बाहर से खाकी वर्दी में एक महिला मशीनगन लेकर बैंक में दाखिल हुई और कर्मचारियों पर गन तान दी। यह देख कर्मचारियों के पसीने छूट गए। ग्राहक भी हक्का-बक्का रह गए। बैंककर्मी इतने खौफ में आ गए कि न तो सायरन बजा सके और न ही पुलिस को फोन कर सके। दरअसल यह कोई बैंक लूट की प्रयास नहीं बल्कि मॉकड्रिल था, जिसमें बंदूकधारी महिला खुद एसपी साउथ रवीना त्यागी थीं।

ढिलाई पर लगाई फटकार
loading...
यह घटना कानपुर दक्षिण क्षेत्र के निरालानगर इलाके में स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा में घटी। जैसे ही एमपी फाइव मशीनगन लेकर एसपी त्यागी बैंक में दाखिल हुईं तो किसी को कुछ समझ में ही नहीं आया। एसपी ने बैंक की महिला कर्मियों को बोला कि तुम्हें बदमाशों ने चारो तरफ से घेर लिया है तो उनके पसीने छूट गए। एसपी की मॉकड्रिल में बैंककर्मी फेल हो गए। किसी ने सतर्कता बरती ही नहीं और न ही पुलिस को सूचना देने की प्रयास की। इस लापरवाही पर एसपी ने नाराजगी जताई।

बंद था इमरजेंसी सायरन

एसपी का पारा तब चढ़ गया जब उनके बार-बार कहने पर सहायक प्रबंधक रुबीना अहमद ने इमरजेंसी सायरन का बटन दबाया तो वह बजा ही नहीं। मालूम चला कि वह बंद है। इस पर एसपी ने उन्हें कड़ी फटकार लगाई। इतना ही नहीं, कहने के बावजूद कोई भी डायल १०० को खबर नहीं दे पाया। किसी के पास भी थाना या चौकी प्रभारी का नंबर नहीं था।

सात साल पहले पड़ी थी डकैती

यह वही बैंक शाखा है जहां सात वर्ष पहले तीन बीटेक छात्रों ने अनोखे अंदाज में डकैती डाली थी, जिसका खुलासा करने में पुलिस को बहुत मुश्किल हुई थी, क्योंकि छात्रों ने एक हॉलीवुड फिल्म से डकैती का ऐसा आइडिया निकाला था कि पुलिस उन तक एक अद्भुत तरीके से ही पहुंच सकी थी।

सुरक्षा संसाधन नदारद

जब एसपी ने सुरक्षा संसाधनों को चेक किया तो फायर उपकरण दुकान में बंद थे। आग लगने की स्थिति में बचाव का इंतजाम मौके पर था ही नहीं। इसकेअतिरिक्त एसपी ने बाबूपुरवा के चारराड चौराहा और बाकरगंज शाखा का भी निरीक्षण किया।