'खतरनाक' गैंगस्टर राजू ठेहट को हर पल जान का खतरा, मंडराता रहता हैं पुलिस-कमांडोज़, बुलेट प्रूफ पहनाकर होती है पेशी

राजस्थान के सबसे 'खतरनाक' गैंगस्टर को जान का खतरा बना हुआ है। हर वक्त पुलिस से घिरे होने के बावजूद हर पल ये खतरा मंडराता रहता है कि कभी कोई उसे गोलियों से भून ना डाले। यही कारण है कि पुलिस भी इस आशंका के चलते सतर्क हो गई है। लिहाज़ा इस गैंगस्टर को पेशी में ले जाने के दौरान उसे बाकायदा बुलेट प्रूफ जैकेट पहनाई जाती है। प्रदेश में संभवतया ऐसा पहली बार ही देखने को मिल रहा है जब एक गैंगस्टर को बुलेट प्रूफ जैकेट पहनाकर पेशी पर ले जाया जाता है। पुलिस और कमांडोज़ के पूरे लाव-लश्कर के बीच बुलेट प्रूफ पहने किसी गैंगस्टर की पेशी चर्चा का विषय बनी रही है।

गैंगस्टर राजू ठेहट को आखिर किस बात का डर?
loading...
कभी खौफ का पर्याय रहा गैंगस्टर राजू ठेहट फिलहाल जेल में बंद है। उसपर कई संगीन धाराओं के मुताबिक मुकदमे दर्ज़ हैं। लिहाज़ा अलग-अलग मामलों में उसकी पेशी कोर्ट में अक्सर हुआ करती है। किन्तु इन दिनों ठेहट को जान का खतरा बना हुआ है। अंदेशा जताया जा रहा है कि दुश्मन गैंग के गुर्गे कभी भी उसे जान से मार सकते हैं। यही कारण है कि जब भी उसकी पेशी होती है उसे पुलिस और कमांडोज़ के सुरक्षा घेरे के अलावा बुलेट प्रूफ जैकेट में रखा जाता है।

छावनी में तब्दील हो जाता है कोर्ट परिसर 
गैंगस्टर आनंदपाल की ही तर्ज़ पर गैंगस्टर राजू ठेहट की भी कोर्ट में कड़े सुरक्षा इंतज़ामों के बीच पेशी होती है। जब भी ठेहट को पेशी पर लाया जाता है तब पूरा कोर्ट परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो जाता है। ठेहट के पेशी पर पहुँचने से पूर्व ही कोर्ट परिसर के भीतर और बाहर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात कर दी जाती है। ताकि किसी तरह की दुर्घटना यहां भारी न पड़ जाए।

पिछले दिनों ही राजू ठेहट को बुलेट प्रूफ जैकेट पहनाकर परबतसर कोर्ट में पेश किया गया। इस तरह की पेशी देखकर वहां उपस्थित लोग हैरत में पड़ गए। फ़िल्मी स्टाइल से हो रही ठेहट की पेशी चर्चा का विषय बनी रहती है।

कुछ दिनों पूर्व राजू ठेहट को एक व्यापारी पर जानलेवा हमले के मामले में पेश किया गया। मामले के मुताबिक 10 फरवरी 2015 को कुचामन निवासी नया शहर नारायण अग्रवाल ने कुचामन थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि वह सुबह अपने  दफ्तर में बैठा था, तभी अचानक गाड़ी में सवार होकर रिछपाल, लक्ष्मण, भंवर लाल, मुकेश, हरेंद्र हाथों में हथियार लेकर आए और केबिन का कांच तोडकऱ भीतर घुस गए और जानलेवा हमला कर दिया। चिल्लाने पर आसपास के दुकानदार दौड़ कर आए तब तक आरोपी भाग गए। इसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया।
मारोठ पुलिस ने हरेंद्र सिंह को पकड़ा तथा इस मामले में पुछताछ में हरेंद्र ने गैंग में शामिल होना स्वीकार किया। उन्होंने व्यापारी पर जानलेवा हमला राजू ठेहठ के इशारे पर करना बताया। इस जानलेवा हमले में पुलिस ने 307 के मामले में राजू ठेहठ को कड़ी सुरक्षा में एडीजे कोर्ट परबतसर में पेश किया। वहीं राजू ठेहठ पर जान के खतरे के चलते बुलेट प्रुफ जाकेट पहनाकर पेश किया गया। पेशी के दौरान कोर्ट परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। इस दौरान मकराना सीओ सुरेश कुमार , परबतसर सीआई सुभाष चन्द्र सहित बड़ी संख्या में क्यूआरटी जवान उपस्थित रहे।