8वीं पास लड़की को पसंद नहीं आया दूल्हा, स्टेज पर सबके सामने दुल्हन ने कर दिया यह घोषणा

अशोकनगर ईसागढ़ जनपद के ग्राम देवतखिरिया में मंगलवार की रात एक शादी अधूरी रह गई। यहा वरमाला की रस्म के बाद दुल्हन को दूल्हा पसंद नहीं आया, तो उसने विवाह करने से मना कर दिया और फिर इस वजह से बरात बिना दुल्हन के लौट गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़, खिरियादेव निवासी भगवानलाल कुशवाहा की पुत्री सोनम की शादी शिवपुरी जिले के ग्राम इंदौर निवासी शिवचरण कुशवाहा के पुत्र प्रतापभान सिंह कुशवाह से तय हुई थी। 
कई दिनों से दोनों घरों में विवाह की तैयारियाँ चल रही थीं और 25 जून की रात को प्रतापभान सिंह बारात लेकर खिरियादेव गाँव आए थे। खाने पीने के बाद वरमाला की रस्म भी हो गई किन्तु उसके बाद दुल्हन सोनम ने अचानक विवाह से मना कर दिया। आठवीं तक शिक्षित सोनम ने कहा कि केवल मेरे पिता ने लड़के को देखा था। मैंने पहले इस लड़के को नही देखा था और ना ही मुझे कोई फ़ोटो दिखाया गया था। मैंने पहली बार लड़के को बरात में देखा था और मुझे यह पसंद नहीं आया। 
इसलिए मैंने विवाह से इंकार कर दिया। सम्बन्धियों ने समझाया, किन्तु सोनम नहीं मानी। स्थिति बिगड़ने पर किसी ने पुलिस को फोन किया। हालांकि, सम्बन्धियों ने कहा कि विवाह से पहले लड़का-लड़की को एक-दूसरे से मिलाना चाहिए था। इधर, दूल्हा प्रतापभान सिंह के पिता शिवचरण कुशवाहा ने कहा कि गोत्र के कारण विवाह को रद्द कर दिया गया था। हमारा गोत्र सकोरिया है और दुल्हन का गोत्र सिलोरिया है और दोनों जनजातियों के बीच विवाह नहीं हो सकता है। इसलिए, मौके पर, समाज के पंचों ने पंचायत किया और दोनों पक्षों के सामान और खर्च को वापस कर दिया। इसके बाद बरात वापस लौट गई।