20,000 करोड़ की जमीन को लेकर गोदरेज परिवार में मतभेद, हो सकता है बंटवार

मुंबई का लैंडलॉर्ड कहे जाने वाले गोदरेज परिवार में जमीनी विवाद बढ़ता ही जा रहा है। गोदरेज परिवार की हजारों करोड़ रुपये की जमीनें और कई इंडस्ट्री का बंटवारा हो सकता है। खबरों के मुताबिक़ कारोबार में हिस्सेदारी के पुनर्गठन के लिए कई सलाहकारों और टॉप लॉ फर्म की सेवाएं भी ली जा रही हैं।
जानकारी के मुताबिक़ मुंबई के विखरोली में गोदरेज परिवार का 1,000 एकड़ का एक भूखंड स्थित है, जिसकी कीमत लगभग 20 हजार करोड़ रुपये बताई जा रही है।  विखरोली में गोदरेज परिवार की कुल 3,400 एकड़ की जमीन है। खबरों की माने तो इस जमीन के बंटवारे के लिए गोदरेज ऐंड बॉयस के चेयरमैन जमशीद गोदरेज द्वारा जेएम फाइनेंशि‍यल से जुड़े बड़े इनवेस्टमेंट बैंकर निमेश कम्पानी और एजेबी पार्टर्नस के वकील जिया मोदी से सलाह-मशविरा ले रहे हैं।
 
बता दें कि विखरोली की जमीन पर अगर रियल एस्टेट प्रॉपर्टी विकसित की जाए तो उसकी कीमत लगभग एक लाख करोड़ रुपये तक हो सकती है। इस इलाके में सिर्फ जमीन की कीमत प्रति एकड़ 20 करोड़ रुपये के आसपास है। माना जा रहा है कि इन जमीन को लेकर इस परिवार में मतभेद शुरू हो गए हैं। दरअसल जमशीद गोदरेज का परिवार चाहता है कि जमीन पर बहुत अधिक रियल एस्टेट विकास न किया जाए, लेकिन आदि और नादिर गोदरेज का परिवार चाहता है कि इस जमीन पर रियल एस्टेट का भरपूर विकास हो। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा है कि इस बारे में दोनों परिवार आज बयान भी जारी कर सकते हैं। 

गौरतलब है कि गोदरेज समूह 122 साल पुराना है। 1897 में युवा पारसी वकील आर्देशीर गोदरेज ने एक ताला कंपनी के साथ गोदरेज की शुरुआत की थी। गोदरेज समूह में पांच सूचीबद्ध कंपनियां हैं- गोदरेज इंडस्ट्रीज, गोदरेज कंज्यूमर, गोदरेज एग्रोवेट, गोदरेज प्रॉपर्टीज और एस्टेक लाइफसाइंसेज। इन सभी की बाजार पूंजी लगभग 1.2 लाख करोड़ रुपये की है। समूह के चेयरमैन आदि गोदरेज हैं, यह समूह साबुन से लेकर रियल एस्टेट तक के कारोबार में है।